Car Insurance Claim Kaise Kare

आज जानेंगे Car Insurance Claim Kaise Kare अगर आप अपने कार इंश्योरेंस का क्लेम लेना चाहते हैं तो यह आर्टिकल स्पेशल आपके लिए है, इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे कि आप अपने कार इंश्योरेंस का क्लेम कैसे कर सकते हैं। अगर आपने अपनी गाड़ी का insurance करवा रखा है और कोई अनहोनी हो गई है तो आप किस तरह से कंपनी से इसका क्लेम ले सकते हैं, यही जानकारी इस आर्टिकल में मैं आपको दूंगा।

Car Insurance Claim Kaise Kare

कार इंश्योरेंस क्लेम लेने के साथ-साथ यहां पर मैं आपको यह जानकारी भी दूंगा की फर्स्ट पार्टी सेकंड पार्टी और थर्ड पार्टी insurance में क्या फर्क होता है और अगर आपने कोई इंश्योरेंस करवा रखा है तो आप यह कैसे पता कर सकते हैं कि यह इंश्योरेंस किस पार्टी का है, इसके साथ साथ मैं आपको बहुत सी अन्य जानकारी भी दूंगा जो कि आपको इंश्योरेंस क्लेम करने में काफी सहायता प्रदान करेगी।

आइए समय बर्बाद ना करते हुए जल्दी से जल्दी आर्टिकल को शुरू करते हैं और देख लेते हैं कार इंश्योरेंस क्लेम कैसे करते हैं?

Car Insurance Claim Kaise Kare

अगर आपकी गाड़ी के साथ कोई अनहोनी हो गई है, और आपने गाड़ी का बीमा करवा रखा है तो आप आसानी से इस अनहोनी का क्लेम ले सकते हैं, अगर आपकी गाड़ी को नुकसान हुआ है और अगर आपकी गाड़ी की वजह से किसी और साधन को नुकसान हुआ है या आपको खुद को चोट आई है तो भी आप क्लेम ले सकते हैं।

लेकिन क्लेम लेने से पहले आप जान लीजिए कि आपने किस प्रकार का insurance करवा रखा है, क्योंकि यह क्लेम आपको इंश्योरेंस के बेसिस पर ही मिलने वाला है, जैसे कि अगर आपने फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस करवा रखा है तो आपको थर्ड पार्टी का क्लेम कभी मिल ही नहीं सकता।

तो आइए एक बार अलग-अलग देख लेते हैं कि यह फर्स्ट सेकंड और थर्ड पार्टी का इंश्योरेंस क्या होता है? एक बार अगर इसकी कंफ्यूजन आपके दिमाग से दूर हो गई तो आप आसानी से समझ जाएंगे कि यह बीमें का क्या फंडा होता है, और आपको इंश्योरेंस क्लेम करने के लिए क्या-क्या करना पड़ेगा।

First party insurance

फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस एक आधा अधूरा इंश्योरेंस होता है, फर्स्ट पार्टी का मतलब होता है कि आपकी गाड़ी और आप खुद, यह अक्षर छोटे साधनों के लिए ही होता है, अगर आपने फर्स्ट पार्टी insurance करवा रखा है तो इसका मतलब है कि अगर आपके वाहन की कोई टूट-फूट होती है तो उसका खर्च कंपनी देगी लेकिन इसके अलावा अगर किसी प्रकार की कोई समस्या जैसे कि बड़ा एक्सीडेंट होने पर सामने वाले का खर्चा यह सब कंपनी नहीं देती।

Second Party

सेकंड पार्टी इंश्योरेंस नाम की कोई चीज नहीं होती, सेकंड पार्टी हम कंपनी को कहते हैं फर्स्ट पार्टी हम खुद होते हैं और सेकंड पार्टी वह कंपनी होती है जो हमारा इंश्योरेंस कर रही है।

हम जो भी इंश्योरेंस का क्लेम लेते हैं वह हमेशा सेकंड पार्टी से ही लेते हैं, यानी कि सेकंड पार्टी इंश्योरेंस नहीं होता सेकंड पार्टी हम कंपनी को कहते हैं सेकंड पार्टी ही इंश्योरेंस प्रोवाइड करवाती है, और फर्स्ट पार्टी और थर्ड पार्टी को सेकंड पार्टी ही इंश्योरेंस देती है।

Third Party insurance

फर्स्ट पार्टी आप खुद सेकंड पार्टी कंपनी और थर्ड पार्टी का मतलब होता है कि वह तीसरा कोई साधन या को तीसरा बंदा जो आपके और आपकी कंपनी के बीच आ रहा है, उदाहरण के लिए समझाऊं तो अगर आप अपनी गाड़ी किसी दूसरी गाड़ी में ठोक देते हैं तो वह गाड़ी थर्ड पार्टी कहलाएगी।

जब हमारा किसी दूसरे बंदे के साथ एक्सीडेंट होता है तो कई बार हमें उसको नुकसान की भरपाई के लिए कुछ पैसे देने पड़ते हैं अगर आपने अपनी गाड़ी का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस करवा रखा है तो इसका मतलब है कि वह कंपनी ही नुकसान की पूरी भरपाई करेगी जिससे आपने इंश्योरेंस लिया हुआ है

आशा करूंगा कि आपको समझ आ गया होगा, कि फर्स्ट सेकंड और थर्ड पार्टी का क्या मतलब होता है? एक बार अगर दोबारा आपको उदाहरण के रूप में बताऊं तो फर्स्ट पार्टी आप खुद है सेकंड पार्टी आपकी कंपनी है, जिससे आपने बीमा करवा रखा है, और थर्ड पार्टी वह है जिसके साथ आपकी कोई अनहोनी हो सकती है, यानी कि आपको और कंपनी के बीच में कोई भी तीसरा आता है वह थर्ड पार्टी होगा और उसको जो भी क्लेम देना है, वह थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत आता है।

Comprehensive package policy क्या है

कंप्रिहेंसिव पैकेज पॉलिसी एक ऐसा इंश्योरेंस होता है, जिसमें फर्स्ट पार्टी और थर्ड पार्टी दोनों को कवर किया जाता है, यानी कि यह insurance आपको सस्ता भी पड़ेगा और कंपनी की तरफ से आपको फुल कवर भी दिया जाएगा, अगर आपकी गाड़ी के साथ कोई भी अनहोनी होती है तो आप और थर्ड पार्टी दोनों को कवर मिलेगा इसके साथ-साथ आपकी गाड़ी को जो भी नुकसान हुआ है, उसका क्लेम भी पूरा पूरा आपको मिलेगा।

Car insurance Claim Full Process

इस बात से कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आपने कौन सा इंश्योरेंस ले रखा है, ज्यादातर कार के लिए लोग कंप्रिहेंसिव पैकेज पॉलिसी का ही इस्तेमाल करते हैं, और जब आप इंश्योरेंस लेने के लिए कंपनी में जाएंगे तो भी वहां पर आपको थर्ड पार्टी इंश्योरेंस ही दिया जाएगा, क्योंकि थर्ड पार्टी के साथ-साथ फर्स्ट पार्टी भी इंश्योर्ड होता है। इसका मतलब है कि अगर आपके पास थर्ड पार्टी इंश्योरेंस है तो आपके पास फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस तो होना ही होना है।

अगर आपको नहीं पता कि आप अपना insurance कैसे चेक करें तो आपके गाड़ी के साथ जो भी बीमे के कागजात हैं आप उस को खंगाल सकते हैं, उन कागजों में आपको साफ-साफ दिखाई देगा कि आपको गाड़ी का कौन सा इंश्योरेंस है और आप कितने तक का क्लेम आसानी से ले सकते हैं इसमें प्रीमियम की भी पूरी जानकारी लिखी हुई होती है, इसलिए यह कागजात आपके लिए बहुत जरूरी है। अब जान लेते हैं कि इंश्योरेंस का क्लेम लेने का प्रोसेस क्या होता है।

इंश्योरेंस का क्लेम आप कई प्रकार से ले सकते हैं मुख्यत: इसके दो प्रकार हैं एक तो आप अपनी गाड़ी को लेकर सीधा कंपनी में जा सकते हैं जहां पर वह कंपनी के लोग गाड़ी के हालात देखकर आपको इंश्योरेंस का क्लेम दे देंगे।

कई लोग बाहर गैराज में भी गाड़ी ठीक करवा लेते हैं लेकिन ज्यादातर कंपनियां ऐसे मामलों में भी इंश्योरेंस का क्लेम देती है आप जहां भी अपनी गाड़ी ठीक करवा रहें हो वह एक रजिस्टर्ड दुकान होनी चाहिए, उस कंपनी के साथ जिस कंपनी का बीमा आप ने ले रखा है और फिर वहां से आपको एक पक्का बिल बनवाना होगा और इस बिल को आपको उसी कंपनी में जमा करवाना होगा जहां से आपने बीमा ले रखा है। कंपनी के लोग आपके पूरे कागजात देखेंगे और उसके बाद यह निश्चित करेंगे कि आपको बीमा की राशि कितनी देनी है और आपको किस प्रकार का इंश्योरेंस क्लेम देना है।

जब एक्सीडेंटल मामलों में थर्ड पार्टी इंवॉल्व होती है तो मामला थोड़ा सा गड़बडा जाता है, क्योंकि यहां पर यह निश्चित करना होता है कि गलती आपकी थी या सामने वाले की अगर सामने वाले की गलती थी तो उसके थर्ड पार्टी बीमा के तहत आपको उसकी तरफ से क्लेम मिलेगा और अगर गलती आपकी थी तो आपके थर्ड पार्टी के बीमे के आधार पर उसको क्लेम मिलेगा।

कई बार एक्सीडेंट बहुत बड़ा होता है और मामला कोर्ट में भी पहुंच जाता है, ऐसे मामलों में हमेशा कोर्ट डिसाइड करता है कि गलती किसकी है, और कौन किसको क्लेम देगा, ऐसे मामलों में जिसके भी सिर पर क्लेम का बोझ आता है उसने अगर बीमा करवा रखा है तो उसकी कंपनी क्लेम का पैसा भरेगी।

Car insurance claim लेने के जरूरी कागजात

इंश्योरेंस का क्लेम देने के लिए आपको अपनी गाड़ी के और आपके खुद के सभी प्रकार के डॉक्यूमेंट देने होंगे और अगर थर्ड पार्टी इंवॉल्व है तो थर्ड पार्टी के भी सभी कागजात होने चाहिए।

जैसे कि हमने आपको ऊपर बताया कई बार अगर एक्सीडेंट बहुत बड़ा है और नुकसान बहुत ज्यादा हो गया है तो मामला कोर्ट में जाने पर कोर्ट डिसाइड करता है कि किसको क्लेम देना होगा, ऐसे में कोर्ट के भी सभी कागजात साथ में लगाने होते हैं अगर मामला बड़ा है तो आपको बीमा के बारे में कंपनी की पॉलिसी पूछ लेनी चाहिए और अपने वकील से भी तत्काल सलाह लेनी चाहिए।

No depreciation insurance क्या होता है

अगर आप इंश्योरेंस करवाते हैं तो आपके लिए नो डेप्रिसिएशन इंश्योरेंस को समझना काफी जरूरी हो जाता है, अगर आसान भाषा में समझाऊं तो डेप्रिसिएशन का हिंदी में मतलब मूल्यह्रास होता है किसी भी वस्तु का समय के साथ मूल्यह्रास होता है आज अगर आपके पास कोई ₹100000 की वस्तु है तो वह साल भर में कुछ कम पैसों की रह जाएगी जैसे कि 80000 या 90000 की, यह मूल्यह्रास आप के साधन के साथ भी लागू होता है क्योंकि समय के साथ आपकी कार पुरानी होती जाएगी।

No depreciation insurance एक प्रकार का ऐडऑन होता है जब आप insurance करवाते हैं इसके लिए आपको अलग से प्रीमियम में कुछ पैसे बढ़ाकर भरने होंगे। लेकिन अगर आप No depreciation insurance नहीं लेते हैं तो इसका मतलब है कि आपको भविष्य में इंश्योरेंस का जो भी क्लेम मिलेगा वह डेप्रिसिएशन लगाकर मिलेगा जैसे कि अगर आप की नई गाड़ी की कीमत 10 लाख रुपए है तो साल बाद हो सकता है कि क्लेम देते वक्त कंपनी गाड़ी का मूल्य 8 लाख ही लगाए।

नो डेप्रिसिएशन इंश्योरेंस एड ऑन लेकर आप इस नुकसान से बच सकते हैं, जब आप नई गाड़ी लेते हैं तो यहां पर No depreciation insurance के साथ 5 साल की समय अवधि मिलती है। यानी कि 5 साल तक अगर आप कोई भी क्लेम लेंगे तो गाड़ी की कीमत जो आपने नई गाड़ी लेते वक्त भरी थी वही कीमत लगाई जाएगी। और नई गाड़ी की कीमत के अनुसार ही आपको क्लेम मिलेगा।

कुछ समय पहले तक इंडिया में यह रूल था कि आप केवल साल में दो बार ही क्लेम ले सकते हैं, लेकिन आगे चलकर अथॉरिटी ने यह नियम बदल दिया और आज यह नियम है कि आप जितना मर्जी बार क्लेम ले सकते है, इसीलिए यहां पर एक बोनस पॉलिसी भी है आइए उसे भी देख लेते हैं।

ये भी पढ़े –

दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर कौन सा है

सबसे ज्यादा प्रोटीन किसमे होता है

No claim bonus क्या होता है

जब आप पूरे साल प्रीमियम भरते हैं और कंपनी से किसी भी प्रकार का कोई क्लेम नहीं लेते हैं तो इसमें कंपनी को काफी फायदा होता है, इसलिए कंपनी आपको कुछ रिवार्ड पॉइंट देती है, जब आप अगले साल के लिए प्रीमियम भरते हैं और नया बीमा करवाते हैं तो उस समय आप को काफी राहत मिलती है और पैसे में खूब छूट दी जाती हैं।

लेकिन अगर आप साल में एक बार भी क्लेम ले लेते हैं तो आपको नो क्लेम बोनस नहीं मिलता, इसलिए काफी लोग लालच में आकर छोटी मोटी टूट-फूट खुद ठीक करवा लेते हैं और कंपनी से किसी भी प्रकार का कोई क्लेम नहीं लेते।

FAQs

Car Insurance क्या होता है?

कार इंश्योरेंस एक तरह से आपकी कार का सुरक्षा कवच होता है जिसकी मदद से यदि आपकी कार दुर्घटना में छतिग्रस्त हो जाती है तो कार इंश्योरेंस से इसकी भरपाई की जा सकती है जब भी आप कोई नई कार खरीदते हैं तो आपको इसके साथ बीमा लेना भी आवश्यक है।

कार इंश्योरेंस क्लेम करने हेतु आवश्यक दस्तावेज क्या है?

सबसे पहले आपको कार इंश्योरेंस क्लेम करने वाले फॉर्म की जरुरत पड़ेगी जिसे अच्छे से भरने के बाद आपको आगे दिए गए दस्तावेजों की कॉपी संलग्न करना है जैसे insurance पालिसी की कॉपी, कार का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, कार चालक का ड्राइविंग लाइसेंस और अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन की लिखित FIR आदि।

कार इंश्योरेंस में क्या क्या कवर होता है?

वाहन चालक पर अगर कोई केस होता है तो उसकी फीस इसके साथ कार के दुर्घटना से हुई हानि की भरपाई भी बीमा से होती है इसके अलावा अगर कार चोरी हो गयी है या कोई प्राकृतिक आपदा के कारण कार को नुकसान हो गया है तो उसे भी कवर किया जाता है।

कार इंश्योरेंस कितने प्रकार का होता है?

इसके लिए 4 तरह की इंश्योरेंस पॉलिसी होती हैं जिनमें थर्ड पार्टी इंश्योरेंस और ओन डैमेज इंश्योरेंस भी शामिल हैं इसके साथ ही कॉम्प्रिहैन्सिव पॉलिसी या पैकेज पॉलिसी और व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा आदि।

नई कार का insurance कितने साल का लेना जरुरी है?

सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार नई कार को इंश्योरेंस लेते समय उसका कम से कम 3 साल का वेलिडिटी होना चाहिए मोटर व्हीकल एक्‍ट के अनुसार जो भी वाहन सड़क पर चलता है उसका थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस होना आवश्‍यक है।

Conclusion

तो अब आप जान गए होंगे कि Car Insurance Claim Kaise Kare कैसा लगा आपको आज का यह है आर्टिकल, आशा करूंगा कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी यहां पर हमने जाना कि आप कार इंश्योरेंस क्लेम कैसे ले सकते हैं अगर आपको जानकारी अच्छी लगी है तो इसे अपने करीबी साथियों के साथ साझा करना बिल्कुल भी ना भूलें मिलते हैं किसी नई जानकारी के साथ नए आर्टिकल में।

NetHindi.com पर आपका स्वागत है यहाँ हम आपको देश दुनिया की दिलचस्प जानकारी शेयर करते रहते हैं अगर आप भी नई नई जानकारियों को जानने के लिए इक्षुक है तो हमारे साथ बने रहे हम आपके लिए ऐसे ही जानकारियां शेयर करते रहेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here