पृथ्वी के कितने प्रतिशत भाग पर जल है

पृथ्वी के कितने प्रतिशत भाग पर जल है यह बहुत से लोगो को पता है लेकिन आज भी बहुत से लोग हैं जो इस बारे में कुछ नहीं जानते तो आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं. पानी एक ऐसा प्राकृतिक संसाधन जिसकी जरुरत हर जीव जंतु को होती है. पृथ्वी में जल की कोई कमी नहीं लेकिन समुद्र में पाए जाने वाला पानी खारा होने की वजह से हम इस पानी का उपयोग पीने के लिए नहीं कर सकते हैं. जल ही जीवन है इस लाइन को आपने कई जगह पढ़ा होगा या फिर कई बार सुना होगा और शायद आप इसका महत्त्व भी जानते होंगे. इसलिए आपको भी पानी का संरक्षण जरुर करना चाहिए जिससे हमारी आने वाली पीढ़ियों को पानी की कमी की समस्या का सामना न करना पड़े. पानी मनुष्य के लिए कितना जरुरी है इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है कि पानी के बिना मनुष्य का जीवन संभव नहीं है. ऐसे में हर मनुष्य की जिम्मेदारी बनती है कि वह जितना हो सके पानी की बचत करे.

पृथ्वी के कितने प्रतिशत भाग पर जल है

पृथ्वी के कितने प्रतिशत भाग पर जल है

हमारी पृथ्वी की सतह पर 71 प्रतिशत भाग पर जल है जबकि बचे हुए 29 फीसदी भाग पर स्थल है जहां पर मानव और दूसरे जीव जंतु रहते हैं. आज के समय पीने के लिए जमीन के नीचे से पानी निकाला जा रहा है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि जमीन के नीचे सिर्फ 1.6 फीसदी पानी है. जबकि कुल पानी का 0.001 फीसदी हिस्सा वाष्प और बादलों में एकत्रित रहता है.

जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया है कि पृथ्वी की सतह पर सबसे ज्यादा पानी समुद्र में फैला हुआ है कुल पानी का 97 प्रतिशत पानी समुद्र में पाया जाता है लेकिन यह पानी खारा यानी नमकीन होने की वजह से पीने योग्य नहीं है. हालाकि पृथ्वी में 3 प्रतिशत पानी पीने योग्य है जो ग्लेशियर, नदी तालाबों में पाया जाता है. इस तीन प्रतिशत में 2.4 फीसदी हिस्सा ग्लेशियरों, दक्षिणी धुर्वों पर जमा है जबकि बचा हुआ 0.6 फीसदी हिस्सा नदी, तालाबों, झीलों और कुओं पर मौजूद है.

कुछ आकड़ों की माने तो पूरी पृथ्वी पर लगभग 32 करोड़ 60 लाख खरब गैलन पानी है एक गैलन में करीब 4.54 लीटर होता है इससे आप अंदाजा लगा सकते है कि पृथ्वी पर जल की मात्रा कितनी है. अब आप जानना चाहते होंगे पानी की मात्रा कम ज्यादा होती है या नहीं, तो आपको बता दे कि पृथ्वी पर पानी की मात्रा न ही कम हो रही है और न ही बढ़ रही है पानी जितना पहले था उतना अभी है. समुद्र का पानी वाष्प बनकर ऊपर बादलों का रूप ले लेता है और पृथ्वी की दूसरी सतह पर बरस जाता है यह पानी नदियों से होता हुआ पुनः सागर में मिल जाता है इस तरह पानी का ये चक्र चलता रहता है.

तो अब आप ऊपर बताई गयी कुछ बातों से जान गए होंगे कि पृथ्वी के कितने प्रतिशत भाग पर जल है इस पोस्ट से आपको पानी के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी मिल गयी होगी. इससे आपकी जनरल नॉलेज में थोड़ा बहुत इजाफा हुआ होगा. पृथ्वी पर पानी की कोई कमी नहीं लेकिन इसमें महज 3 प्रतिशत पानी पीने योग्य इसलिए हर व्यक्ति को पानी बचाकर चलना चाहिए जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी को पानी की समस्या का सामना न करना पड़े.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here