करंट लगने पर क्या करना चाहिए

आज के इस पोस्ट में हम आपको बिजली का करंट लगने पर क्या करना चाहिए इसके बारे में बताने जा रहे हैं। सावधानी हटी दुर्घटना घटी यह वाक्य आपने कही पढ़ा जरुर होगा और आप भी इसका मतलब भी जानते होंगे। ज्यादातर केस में देखा गया है कि दुर्घटना सावधानी न रखने के कारण होती है। जहां तक बात करे इलेक्ट्रिक करंट की तो यह बिजली का ऐसा झटका होता है जो व्यक्ति की जान भी ले सकता है। करंट आमतौर पर बिजली के नंगे तार छूने से, नंगे पैर इलेक्ट्रिसिटी का काम करते वक्त लग ही जाता है। इसके अलावा अगर घर में मौजूद बिजली से चलने वाले उपकरण से भी करंट लग ही जाता है।

करंट लगने पर क्या करना चाहिए

ऐसे बहुत से लोग हैं जो जानना चाहते है कि करंट लगने पर क्या करे तो आपको बता दे कि घर में मौजूद बिजली से तो हल्का फुल्का करंट लगता है लेकिन यह व्यक्ति की ह्रदय गति पर प्रभाव डालता है। ऐसे में कई बार करंट लगने के बाद व्यक्ति बेहोश भी हो जाता है। यदि बिजली का झटका जोर से लगता है तो व्यक्ति दूर गिर जाता है। कुछ लोग बिजली के झटके को मामूली समझकर लापरवाही बरतते हैं। यदि विशेषज्ञों की माने तो करंट लगने के बाद तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

करंट लगने पर क्या करना चाहिए

जब किसी व्यक्ति को करंट लगता है तो कई बार व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना संभव नहीं हो पाता है। ऐसे में आप प्राथमिक उपचार करके व्यक्ति की हालत में सुधार ला सकते हैं। कई बार व्यक्ति को बिजली का करंट धीरे लगता है लेकिन अधिक समय तक उपचार न मिलने से यह ह्रदय को प्रभावित करने लगता है। ऐसे में हम आपको करंट लगने के कुछ उपाय बताने जा रहे हैं। जिनकी मदद से आप व्यक्ति का प्राथमिक उपचार कर सकते हैं।

1. सबसे पहले बिजली के स्विच को ऑफ कर दे क्योंकि स्विच ऑन रहने से आपको भी बिजली का झटका लग सकता है।

2. पीड़ित व्यक्ति की मदद करने से पहले यह सुनिश्चित करे कि उसके पास पानी या लोहे से बनी चीज तो नहीं है यदि मौजूद है तो उसे सूखी लकड़ी की मदद से हटा दे। जिससे आप बिजली के करंट से बच सके।

3. यदि व्यक्ति बिजली से चिपका हुआ है तो उसे छू कर हटाने की कोशिश बिल्कुल न करे। इस स्थिति में आपको भी करंट लग सकता है। बिजली से चिपके हुए व्यक्ति को किसी लकड़ी से हटाने की कोशिश करे।

4. व्यक्ति को बिजली से अलग करने के बाद उसे रिकवरी पोजीशन में लेटा दे। इस पोजीशन में व्यक्ति को किसी एक करवट में करना है। व्यक्ति का एक हाथ सिर के नीचे और दूसरा हाथ आगे कर देना चाहिए। इसके साथ एक पैर को सीधा और दूसरे को मोड़ देना है।

5. इसके बाद चेक करे कि व्यक्ति सांस ले रहा है या नहीं। यदि सांस ले रहा है तो उसके चोट के निशान की जाँच करे यदि खून निकल रहा है। उसे पानी से धोने के बाद किसी साफ और सूखे कपड़े से बांध दे।

6. यदि व्यक्ति दुर्भाग्यवश सांस नहीं ले पा रहा है तो आपको CPR (कार्डियो पल्मोनरी रिससिटैशन) शुरू कर देना चाहिए। CPR में किसी बेहोश व्यक्ति को उसके सीने को बार बार दबाकर उसके मुंह में हवा देकर उसे होश में लाने की कोशिश की जाती है। यदि व्यक्ति सांस ले रहा है तो कभी भी CPR न करे।

7. ये सभी घरेलु उपचार हो जाने के बाद व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर के पास ले जाए। कई केस में व्यक्ति बिजली का झटका लगने के बाद वह ठीक महसूस करता है लेकिन आपको बता दे कि बिजली का करंट लगने वाले व्यक्ति को मेडिकल ट्रीटमेंट की जरुरत होती है। ऐसे में व्यक्ति को डॉक्टर के पास जरुर ले जाना चाहिए।

तो अब आप जान गए होंगे कि बिजली का करंट लगने पर क्या करना चाहिए वैसे देखा गया है कि ज्यादातर दुर्घटना सावधानी न बरतने से होती है। ऐसे में खासकर बिजली का काम या बिजली से चलने वाले उपकरण को सावधानीपूर्वक चलाना चाहिए। जिससे आप बिजली के करंट से होने वाली दुर्घटना से बच सके। यदि आपको ये जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया में अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे।

इन्हें भी पढ़े –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here